क्लाउड कंप्यूटिंग क्या होता है । What Is Cloud Computing In Hindi

क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है? What Is Cloud Computing In Hindi इसका नाम आपने कही ना कही तो सुना ही होगा। हम अक्सर Internet का इस्तेमाल करते है। तो ये शब्द हमारे सामने आ ही जाता है। आखिर ये क्या है और कैसे काम करती है? इसके फायदे क्या है? इन सभी सवालो के जवाब आपको यही मिलेंगे। तो आए जानते है Cloud Computing के बारे में। 

क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है?

Cloud Computing एक बहुत ही बढ़िया और Advance technology है। जो की कुछ सालों पहले लांच हुई थी। Cloud Computing एक तरह का platform है। जहाँ पर हम High End Resources को इस्तेमाल कर सकते है। हमें इसमें Hardware की टेंशन लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

Basically हमें इसमें एक ऐसा Platform मिलेगा। जहाँ पर हम अपनी Application, Data जैसी चीज़ो को रख पाएंगे। उनसे हम काम ले पाएंगे। 

Example-  मान लीजिए की आपको अपना कुछ Data को Store करना है। तो आपको उसके लिए एक Pc या फिर Harddrive लेनी पड़ेगी। और फिर उसमे Data को Store करना पड़ेगा। और आप उसको सिर्फ एक ही जगह पर access कर पाएंगे। लेकिन Cloud Computing में हमें ऐसा नहीं करना पड़ता। 

Cloud Computing में हमारा DATA एक ऐसी जगह पर स्टोर हो जाता है। जिसे हम जहाँ चाहें वहाँ Access कर सकते है। जैसे की Computer, Laptop, Mobile Phone, Tablet सभी जगहों पर Access कर सकते है। इसके लिए बस हमारे पास एक अच्छा High Speed Internet कनेक्शन की जरूरत पड़ेगी। Cloud Computing की इस service को लेने के लिए हमें थोड़ा सा Amount Pay करना पड़ता है। 

Benefits Of Cloud Computing

1. No Hardware Required- Cloud Computing में हमें किसी भी Hardware Component की जरूरत नहीं पड़ती है। अगर हम Cloud Computing की बजाए खुद का Setup करने लगेंगे। तो हमें बहुत सारा पैसा लगाना पड़ेगा। हमें अच्छी Modern Generation वाले Computers खरीदने पड़ेंगे। 

और साथ ही उनको Manage करने के लिए हमें कुछ लोगों की Team नहीं तैयार करनी पड़ेगी। तो इसलिए हमें Cloud Computing जाना चाहिए। जो की ज्यादातर आजकल की Companies इसी का इस्तेमाल करती है। 

2. Low Cost- Cloud Computing हमें बहुत ज्यादा सस्ती पड़ती है। इसमें हमें कम पैसे में अच्छी खासी बढ़िया servies और Tools मिल जाते है। इसमें हम अपनी जरूरत के हिसाब से Cloud Computing के Plans को ले सकते है। जैसे की हम हर महीने pay करना चाहते है। या Yearly plan या फिर दो साल , 5 साल आदि। 

3. Backup Facility Available- Cloud Computing की ये Facility बहुत बेस्ट होती है। इसमें हमें अपने data का Backup मिल जाता है। अगर कल को उनके Data Centres में कुछ हो जाता है या फिर आग लग जाती है। तो उनके पास हमारे Data की Multiple Copies होती है। जिससे की हमें टेंशन लेने की जरूरत नहीं होगी की कही हमारा Data ख़त्म तो नहीं हो गया है।   

4. Access Anywhere- Cloud Computing में ये एक बहुत ही अच्छी बात है। की हम अपने Data को पूरी दुनिया में कही से भी Access कर सकते है। और किसी भी Device में कर सकते हैं। चाहे वो Computer, Laptop, Tablet या फिर Mobile Phone ही क्यों ना हो। बस हमें एक Internet की जरूरत पड़ेगी।    

5. Customization Available- हमें Cloud Computing में Customize करने का एक बहुत अच्छा Option मिलता है। इसमें हम अपनी Requirement के हिसाब से Processing Power, RAM या Storage को Customize कर सकते है। 

Example(उदाहरण)- अगर हमें Storage Space बढ़ाना है तो वो हम आसानी से कर सकते है। मान लीजिये हमें 100GB से 200GB करनी है। तो वह आसानी से हो जाएगी। जबकि अगर हम खुदके Pc में करने जायेंगे तो हमें बहुत मुश्किल होगी क्योकि हमें उसके लिए हमें एक 500GB की Harddisk खरीदनी पड़ेगी। जो की मांगी होगी। 

6. Many Services Available- हमें इसमें कई तरह के Cloud Providers मिलेंगे। जैसे की Amazon Cloud Services, Google, Oracle आदि। जो हमें Software Services या फिर और भी कई प्रकार की Services हमें मिलेगी।  

7. Safe And Secure- ये बहुत ही Safe और Secure है। क्योकि इसमें जो Cloud Providers होते है। वो कई कंपनियों और बड़ी-बड़ी Organizations का data store करके रखते है। जो की बहुत कीमती होता है। इसलिए Cloud Providers Highly Trained Computer और IT Professionals को Hire करके रखते है। ताकि उनके Clients का Data safe रहे। 

Types of Cloud Models 

Cloud Computing को तीन प्रकार के Models में डिवाइड किया गया है:-

  1. Private Cloud
  2. Public Cloud
  3. Hybrid Cloud

1. Private Cloud

Private Cloud जो होता है उसमे सिर्फ Particular Organizations या फिर Institute ही इस्तेमाल कर सकते है। Private Cloud में सिर्फ एक ही Organization या फिर कोई Private Company है उन्ही के लोग उसे देख सकते है और access कर सकते है। इसमें हमारे जो Servers होते है या फिर और भी कई Machines होती है वो सब एक ही Organization के लिए होती है। 

  • ये Cloud Model महँगा होता है।
  • इसमें हमें Customization का Option मिलता है।
  • इसमें हमें बहुत ज्यादा Security मिल जाती है। इसमें हमें कोई Risk नहीं रहता है। 

2. Public Cloud

ये जो Cloud है। ये Public के लिए Available होते है। इसमें जो बड़ी Companies होती है जैसे की Google वो अपने खुद का Infrastructure बिल्ड करती है और बाद में उसे Public को Access देते है। 

  • ये Cloud Model सस्ता होता है।
  • इसमें हमें कम Customization का Option मिलता है। 
  • इसमें हमें ज्यादा Security नहीं मिलती है। और थोड़ा सा Security Risk होता है। 

3. Hybrid Cloud

ये जो Cloud है वो Private और Public Cloud को मिला के बना है। इन दोनों को मिला के जो Hybrid Cloud Model बनता है। उसमे हमें Private और Public के Benefits मिलते है। ये Model बहुत बढ़िया है। और महँगा भी नहीं है। 

Cloud Computing Services

Cloud Computing में हमें तीन प्रकार की Services मिलती है:-

  1. Software as a Service (SaaS)
  2. Platform as a Service (PaaS)
  3. Infrastructure as a Service (IaaS)

1. Software as a Service (SaaS)

इसमें हम किसी भी Software को Internet के जरिए Access करते है। हमें उस Software को खरीदना नहीं पड़ता और ना ही Download करना पड़ता है। हमें बस उससे Internet के Through Access करके अपना काम करना होता है। Examples:- Google Apps, Google Docs, Dropbox, etc. 

2. Platform as a Service (PaaS)

इसमें हमें एक Platform मिलता है। जिसमे हम अपनी कोई Application को या अपने बनाए हुए Software को Install करके उसमे अपना काम कर सकते है। इसमें बस हमें एक Platform मिलेगा जिसे हम अपनी मर्ज़ी से उसे इस्तेमाल करेंगे। Examples:- Gmail, Magento Commerce Cloud, etc.

3. Infrastructure as a Service (IaaS)

इसमें हमें एक तरह का Infrastructure मिलता है। जिसे हम अपने हिसाब से Manage कर सकते है। जैसे की Storage, Networking जैसी चीज़ो को Manage कर सकते है। Examples:- Servers, Digital Ocean, etc.

Leave a Comment