What Is Tally In Hindi

दोस्तों क्या आप जानना चाहते है Tally क्या है (What Is Tally In Hindi) आपने Tally का नाम तो सुना ही होगा। आप लोग Computer Course सिखने के लिए अलग-अलग इंस्टिट्यूट में जाते होंगे। वहाँ पर आपने Tally के बारे में सुना होगा। और आपके मन में सवाल भी आया होगा कि ये Tally क्या है। ये किस प्रकार का सॉफ्टवेयर है? इसके फायदे क्या है? तो आज हम इस पोस्ट में इन सभी के बारे में जानेगे।

दोस्तों बिज़नेस के मामले में Accounting बहुत महत्वपूर्ण होती है। उससे हम अपने खर्चे और बैंक ट्रांसक्शन का हिसाब रखते है। और साथ ही अन्य प्रकार के अमाउंट को भी मैनेज करते है। जिससे हमें पता लगाते है कि हमारे बिज़नेस में हमें कितना फ़ायदा और नुकसान हो रहा है। Tally अकाउंट को मैनेज करने का एक सॉफ्टवेयर है। आए जानते है इसके बारे में। 

Tally क्या है? (What Is Tally In Hindi)

Tally का full form होता है:- Transactions Allowed in a Linear Line Yards. ये एक एकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है। जिसे Tally Solutions Pvt. Ltd. दवारा बनाया गया है। यह एक भारतीय कंपनी है। और इसका Main Office बैंगलोर में है। इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल भारत में सबसे ज्यादा किया जाता है। और बाहर के देशो में भी किया जाता है।

व्यापार(Business) में हमें अपने खर्चो को लिखकर रखना होता है। उसमे हमें पैसो का लेन-देन, माल कहाँ गया-कहाँ से आया, कंपनी में कितना खर्चा हुआ, कर्मचारियों की तन्खुआ आदि और भी कई खर्चे होते है। कंपनी के फायदे और नुकसान को भी मेन्टेन करना होता है। इन सभी को हम पहले समय में नोटबुक/किताब में लिखते थे।

इन सबको कॉपी में लिखना थोड़ा मुश्किल होता था। लेकिन Tally के आने की वजह से बहुत कुछ बदल गया। और बहुत आसान भी हो गया। Tally को हम Computer या Laptop दोनों में इस्तेमाल कर सकते है। 

Tally में हम अलग-अलग Bills की, पैसो की, Business के लेन-देन की एंट्री की जाती है। इसको इस्तेमाल करने के लिए हमें सिर्फ Keyboard का इस्तेमाल करना पड़ता है। इसको इस्तेमाल करना ज्यादा मुश्किल नहीं है। आए अब जानते है इसके इतिहास के बारे में। 

Tally का इतिहास (History Of Tally)

Tally का पहला Version जो की Version 4.5 था। उसे साल 1986 में बनाया गया था। इसे श्याम सुन्दर गोयनका और उनके बेटे भारत गोयनका दवारा बनाया गया था। श्याम सुन्दर गोयनका पहले टेक्सटाइल मिल्स को कच्चे माल सप्लाई किया करते थे। तो उस समय उनको अपने एकाउंट्स को मैनेज करने में थोड़ी परेशानी होती थी। फिर उन्होंने अपने बेटे को कहा कि कोई ऐसा सॉफ्टवेयर बनाओ जिससे की एकाउंट्स और लेन-देन को मैनेज करने में आसानी हो। इसे पहले MS-DOS एप्लीकेशन के रूप में लांच किया। इसको Peutronics नाम दिया गया। इसमें बहुत ही कम फीचर्स थे। 

इसका नाम साल 1999 में Tally Solutions रखा गया। समय के बदलते इसके और भी कई सरे Versions लांच किए गए। Tally 5.4, Tally 6.3, Tally 7.2, Tally 8.1 और Tally 9.0 Version. टैली का लेटेस्ट वर्शन Tally ERP 9 है। जिसे साल 2009 में लांच किया गया था। 

Tally को साल 2016 में GST Service का फीचर भी ऐड किया गया। इसके लेटेस्ट वर्शन में कई सरे आधुनिक फीचर्स है। और आजकल लोग इसी वर्शन को इस्तेमाल करते है। आए अब जानते है Tally के फायदे के बारें में।

Tally के फायदे 

1. Tally सॉफ्टवेयर का इंटरफ़ेस बहुत ही सिंपल है। और से इस्तेमाल करना भी आसान है।

2. इसकी वजह से हमारा बहुत सारा समय बचता है। क्योकि हमें बस इसमें Data को डालना होता है। और फिर हम चाहे तो उसे प्रिंट भी कर सकते है। 

3. इसमें हमारा Data सुरक्षित रहता है। और उसे हम अपने साथ कैर्री भी कर सकते है। हम अपने डाटा को Pendrive में डाल कर रख सकते है।

4. Tally में हम Password भी सेट कर सकते है। जिससे की हमारा डाटा सेफ रहेगा। और जिसे Password पता होगा वही उसे Access कर पाएगा। 

5. इसकी मदद से हम एक कंपनी के डाटा को दूसरी कंपनी में इम्पोर्ट कर सकते है। 

6. ये हमारे बिज़नेस का एनालिसिस भी दिखता है। जिससे हमें पता चलता है कि हमारी सेल कम या ज्यादा तो नहीं है। इससे हम प्रॉफिट और लोस्स को भी अनलयसे कर सकते है। 

7. Tally में हम मल्टीप्ल कम्पनीज बनाकर उन्हें एक ही सॉफ्टवेयर में मैनेज कर सकते है। 

Tally कैसे सीखे?

टैली को हम कई तरीको से सीख सकते है। इसे सीखना ज्यादा मुश्किल नहीं है। लेकिन आसान भी नहीं है। टैली उन लोगो के लिए ज्यादा फायदेमंद है। जो लोग कॉमर्स साइड के होते है। उन्हें एकाउंट्स का अच्छा ज्ञान होता है। लेकिन वैसे Tally को हर कोई सीख सकता है। पहले इसको सीखने में थोड़ी मुश्किल होती है। लेकिन कुछ समय और प्रैक्टिस के बाद ये आसान लगने लगता है। 

1. Coaching Institute:- आप Tally को Coaching institute के जरिए सीख सकते है। आजकल हर शहर में कंप्यूटर सीखाने वाली जगहों पर Tally के कोर्सेज कराए जाते है। बस आपको इसके लिए थोड़ी फ़ीस देनी पड़ेगी। इसको सीखने में 3 से 4 महीने लग जाते है। 

2. Tally Education:- Tally को हम Tally Solutions की मदद से भी सीख सकते है। Tally के कई Tally Coaching Institute है। जहाँ पर वो खुद कंपनी के है। वहाँ से आप सीख के Certificate भी ले सकते है। 

3. Internet:- Tally को हम इंटरनेट की मदद से भी सीख सकते है। हम Google और Youtube से सीख सकते है। लेकिन इसमें हमें ज्यादा फ़ायदा नहीं होगा। और कोई सर्टिफिकेट भी नहीं मिलेगा। 

आज आपने क्या सीखा?

आज हमें जाना की टैली क्या है (What Is Tally In Hindi). ये किस चीज़ के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसके फायदे क्या है और इसे कैसे सिख सकते है। उम्मीद करता हूँ कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। और मैं आपकेँ लिए भविष्य में ऐसी जानकारी लाता रहूँगा।

Leave a Comment